Chanakya Niti- चाणक्य निति के अनुसार ये काम कभी न करें

आचार्य चाणक्य ने बहुत से बाते अपने जीवन काल में कही है और आज वो बाते सत्य साबित हो रही है उन्होंने किसी भी काम को करने से पहले बनायीं गयी योजना के लिए भी कहा है की –

मनसा चिन्तितं कार्यं वाचा नैव प्रकाशयेत।

मन्त्रेण रक्षयेत गूढं कार्यें वाचा नैव प्रकाशयेत।।

मन के द्वारा सोचे गए कार्यों को वाणी द्वारा प्रकट नहीं करना चाहिये। जब तक कार्य पूरा न हो, गुप्त मंत्र की तरफ अपनी योजना को भी गुप्त रखना चाहिये।

चाणक्य की ये सभी बातें आपको जीवन जीना सिखा देगी।

आचार्य चाणक्य कहते है की व्यक्ति को अपनी योजनाओं को किसी भी व्यक्ति के सामने नहीं बताना चाहिये अपनी प्लान को गुप्त रख कर ही किसी कार्य की शुरुवात करनी चाहिये।

क्योंकि आज वह जमाना नहीं रह गया जहाँ हर किसी पर भरोसा किया जा सके। कोई भी काम शुरू करने से पहले यदि उससे सम्बंधित योजना को हमने किसी ऐसे व्यक्ति के सामने बता दिया जो ऊपर के मन से तो हमारा भला चाहता है,

लेकिन अंदर से हमारे प्रति उसके मन में खुंदस भरी हो अंदर से वह हमसे ईर्ष्या करता हो ऐसे व्यक्ति के सामने अपनी योजना बताने से हम अपने कार्य असफल भी हो सकते है.

किसी भी काम में सफल होने के लिए ये जरूर करें।

बहुत से लोग अपनी योजना को इधर-उधर बताते रहते है जिससे दूसरे लोग उसका फायदा उठा लेते है और वह व्यक्ति देखता ही रहा जाता है।

ऐसा भी हो सकता है उसकी योजना जानकर उसका दुश्मन भी उसका फायदा उठा ले या फिर उसका कुछ नुकसान कर दे या उसके कार्य में कुछ अड़चने पैदा कर दे कुछ भी हो सकता है.

आजकल ऐसा भी होता है की हमसे जलन रखने वाले लोग हमारी योजना जानकर हमारे काम में कुछ भी खोट बता कर हमें हत्तोत्साहित करने की कोशिश करते है जिससे हमारा आत्मविश्वास कम होने लगता है, और हम उस काम को करने में शंका करने लगते है।

इसलिये हर तरफ से अगर देखा जाए तो जहाँ तक हो सके अपनी योजनाओ को गुप्त ही रखना चाहिए किसी को भी समय से पहले नहीं बताना चाहिये चाहे वह आपका परम मित्र भी क्यूँ हो।

आचार्य चाणक्य की 25 अवश्य पढ़े

Leave a Comment