संज्ञा किसे कहते है संज्ञा के कितने भेद होते है? (what is noun in hindi)

आजकल अंग्रेजी माध्यम स्कूल के बढ़ते क्रम के कारण बच्चो को हिंदी व्याकरण समझने में बहुत ही कठिनाई होने लग गयी है क्योंकि इन स्कूलों में जो शिक्षक होते है वे भी अंग्रेजी भाषा को अधिक महत्व् देते है इसलिये उन्हें भी बहुत कम हिंदी व्याकरण समझ में आता है|

इसलिये आज हम हिंदी व्याकरण से सम्बंधित संज्ञा के विषय में चर्चा करेंगे की संज्ञा क्या होती है संज्ञा के कितने भेद होते है| (Sangya Kise Kahate Hain) संज्ञा की परिभाषा और इसके उदहारण आदि|

तो चलिये आपको बताते है की संज्ञा क्या है (Sangya In HIndi) और इसे कैसे परिभाषित करते है|

संज्ञा की परिभाषा (Sangya Ki Paribhasha)

किसी व्यक्ति, वस्तु , विषय, स्थान, या भाव आदि के नाम को संज्ञा कहते है| साधारण भाषा में कोई भी नाम जो किसी व्यक्ति वस्तु या विषय, स्थान आदि को दर्शाता है उसे संज्ञा कहते है|

जैसे- मोहन, भारत (India), मोबाइल, कंप्यूटर, कुत्ता आदि|

संज्ञा के उदाहरण (Sangya Ke Udaharan)

  1. मोहन बंसी बजाता है” इस वाक्य में एक व्यक्ति बंसी बजा रहा है जिसका नाम मोहन है अतः यह नाम से सम्बंधित संज्ञा है| जैसे आपका नाम मेरा नाम भी संज्ञा ही है|

2.“मोबाइल बात करने के लिये बहुत अच्छा उपकरण है” इस वाक्य में एक उपकरण है जो बात करने के लिये अच्छा है उसका नाम मोबाइल है| अतः यह एक वस्तु है इसलिये इसे वस्तु से सम्बंधित संज्ञा कहते है|

3. “राजनीति एक बहुत बड़ा क्षेत्र है” यहाँ पर राजनीति एक विषय है जो एक बहुत ही जटिल होती है समझने में अतः यह विषय से सम्बंधित संज्ञा है|

4. “भारत एक महान देश है” भारत किसी व्यक्ति का नाम भी हो सकता है लेकिन यहाँ इस वाक्य में भारत एक देश है जो एक स्थान या क्षेत्र से सम्बंधित संज्ञा है| इसी प्रकार अन्य देशों और राज्यों के नाम भी संज्ञा ही कहलाते है|

अब हम जानेंगे की Sangya Ke Kitne Bhed Hote Hain या संज्ञा को कितने प्रकार से बताया जाता है|

Sangya Kise Kahate Hain Sangya ke kitne bhed hote hain
Sangya Kise Kahate Hain sangya ke kitne bhed hote hain

संज्ञा के भेद (Sangya Ke Bhed)

मुख्य रूप से संज्ञा के तीन भेद होते है और इन भेदों के भी अन्तर्भेद होते है या उप भेद होते है|

  • व्यक्तिवाचक संज्ञा (Proper Noun)
  • जातिवाचक संज्ञा (Common Noun)
    1. द्रव्यवाचक संज्ञा (Material Noun)
    2. समूह वाचक संज्ञा (Collective Noun)
  • भाववाचक संज्ञा (Abstract Noun)

व्यक्ति वाचक संज्ञा (Vyakti Vachak Sangya)

वह शब्द जो किसी व्यक्ति के नाम से सम्बंधित वस्तु या स्थान का बोध करवाता है उसे व्यक्तिवाचक संज्ञा कहते है|

उदाहरण:

मोहन – यह किसी व्यक्ति का नाम है|

राहुल – यह भी किसी व्यक्ति का नाम है|

टेबल – यह एक वस्तु का नाम है जो बैठने के लिये होती है|

गाडी – यह एक साधन का नाम है जो आने-जाने के काम आता है| लेकिन यह यातायात नहीं है|

मध्यप्रदेश – एक राज्य है लेकिन यह एक अलग देश नहीं है यह एक व्यक्तिवाचक संज्ञा का उदाहरण है

जातीवाचक संज्ञा (Jati Vachak Sangya)

जो शब्द किसी व्यक्ति, वस्तु या स्थानी आदि की जाती का बोध करवाता है उसे जातिवाचक या जातिसूचक संज्ञा कहते है|

उदाहरण:

मनुष्य, जानवर, सौरमंडल, लड़का-लड़की, नदी-तालाब आदि|

जाती वाचक संज्ञा भी दो प्रकार की होती है इसके भी दो भेद होते है

  • द्रव्य वाचक संज्ञा
  • समूह वाचक संज्ञा
1. द्रव्यवाचक संज्ञा (Dravya Vachak Sangya)

वह शब्द जो किसी पदार्थ, सामग्री, तत्व, धातु, द्रव्य आदि का बोध करवाता है उसे द्रव्यवाचक संज्ञा कहते है|

उदाहरण:

पानी– पीने का द्रव|

आटा– खाने का द्रव्य या पदार्थ

सोना– आभूषण से सम्बंधित पदार्थ

तांबा– यह भी एक धातु या पदार्थ है जिससे कई तरह की चीजे बनती है

सीमेंट- माकन निर्माण से समन्धित पदार्थ

यह भी पढ़े:

विक्रम बेताल की प्रथम कहानी- उसका पति कौन?

कोरा ज्ञान हिंदी कहानी

महापुरुषों के 100 अनमोल विचार

2. समूह वाचक संज्ञा (Samuh Vachak Sangya)

वह शब्द जो किसी व्यक्ति, वस्तु, विषय, स्थान, या प्राणी के दो या दो से अधिक होने पर उसके समूह या समाज को परिभाषित करता है उसे समूहवाचक संज्ञा कहते है|

उदाहरण:

मनुष्य– हम लोग मनुष्य जाती के है जिन्हें जनमानस भी कह सकते है

सेना– यह सैनिको का एक समूह है इसमें एक से अधिक सैनिक होते है

पुस्तकालय– यह किताबों का समूह है इसमें एक से अधिक किताबे है

समिति– यह अनेक लोगो से मिलकर बनती है

परिवार– यह घर के सदस्यों का समूह है

प्राणी– यह सभी जीवित का समूह है इसमें जानवर और इंसान सभी शामिल है

सौरमंडल– यह ग्रहों, उपग्रहों और तारों का समूह है

जंगल– यह नदी-तालाब, जानवर, पेड़ आदि का समूह है

भाववाचक संज्ञा (Bhav Vachak Sangya)

वह शब्द जो किसी व्यक्ति, वस्तु के गुण-दोष, धर्म, दशा आदि का बोध करवाता है उसे भाववाचक संज्ञा कहते है|

उदाहरण:

बचपन– यह किसी भी व्यक्ति के जीवन का प्रथम चरण (अवस्था) होता है|

बुढ़ापा– यह सभी व्यक्ति के जीवन का अंतिम चरण (अवस्था) होता है|

ख़ुशी– यह एक भाव है जो चेहरे पर दिखती है या प्रकट होती

पागलपन– यह किसी व्यक्ति के मानसिक विकार की अवस्था है

संज्ञा की पहचान कैसे होती है (Sangya Ki Pehchan Kya Hai)

हमने यह तो जान लिया की संज्ञा क्या होती है और कितने प्रकार की होती है संज्ञा के अलग-अलग भेद के बारे में भी आपको जानकारी हो गयी लेकिन आप संज्ञा को पहचानेंगे कैसे उसके लिये आपको बताते है की संज्ञा की पहचान क्या है|

कुछ संज्ञा जीवित प्राणी से संबधित प्राणीवाचक संज्ञा होती है तो कुछ निर्जीव चीजो से सम्बंधित अप्राणीवाचक संज्ञा होती है|

कुछ संज्ञा की गिनती की जा सकती है तो कुछ अनगिनत होती है इसलिये कुछ संज्ञा गणनीय संज्ञा होती है और कुछ अगणनीय संज्ञा होती है

ये संज्ञाए भी ऊपर बताई गयी संज्ञाओ के ही भेद है लेकिन इनको प्राणी और गनानाओ के आधार पर दर्शाया जाता है|

  1. प्राणीवाचक संज्ञा

वह शब्द जो किसी सजीव वस्तु या प्राणी का बोध करवाता है उसे प्राणी वाचक संज्ञा कहते है| जैसे –

  • लड़की
  • कुत्ता
  • सुरेश
  • पशु आदि सभी जीवित होते है इसलिये इनके नामो को प्राणी वाचक संज्ञा की श्रेणी में रखा गया है|

2. अप्राणीवाचक संज्ञा

जो शब्द निजीव वस्तुओ का बोध करवाता है उसे अप्राणी वाचक संज्ञा कहते है| जैसे-

  • टेबल
  • बस
  • पेन
  • कुर्सी
  • घर

3. गणनीय संज्ञा

जिस वस्तु, व्यक्ति या पदार्थ आदि की गणना की जा सकती सकती है एवं उन्हें संख्या में दर्शाया जा सकता है उसे गणनीय संज्ञा कहते है| जैसे-

  • चौराहा
  • त्रिकोण
  • पंचतत्व
  • त्रिगुण
  • सड़क
  • भवन आदि|

4. अगणनीय संज्ञा

जिस वस्तु की गणना नहीं की जा सकती जिसे गिनती में नहीं दर्शाया जा सकता उसे अगणनीय संज्ञा की श्रेणी में रखा जाता है एवं उससे सम्बंधित नाम अगणनीय संज्ञा कहलाता है|

  • पानी
  • तारे
  • हवा
  • दूध
  • तरल आदि|

भाववाचक शब्दों का निर्माण संज्ञा, सर्वनाम विशेषण और अवयव के द्वारा

संज्ञा से भाववाचक शब्दों का निर्माण

बंधू- बंधुत्व

गुरु- गुरुत्व

माता- मातृत्व

मित्र- मित्रता

पंडित- पांडित्य

सती- सतीत्व

पुरुष- पुरुषत्व

सर्वनाम से भाववाचक शब्दों का निर्माण

अहं-अहंकार

पराया- परायापन

दौगला- दौगलापन

ममता- ममत्व

दरिद्र- दरिद्रता

शुर- शुरवीरता

विशेषण से भाववाचक शब्दों का निर्माण

ज्ञानी- ज्ञान

चतुर- चातुर्य

लचीला- लचीलापन

मीठा- मिठास

कड़वा- कड़वाहट

कायर- कायरता

मधुर- मधुरता

अज्ञानी- अज्ञानता

अवयव से भाववाचक शब्दों का निर्माण

गर्मी- गर्माहट

दूर- दूरदर्शिता

नश्वर- नश्वरता

लेख- लिखना

लड़ना- लड़ाई

हँसी- हंसना

संज्ञा का पद परिचय

जब भी संज्ञा का पद परिचय दिया जाता है तब उस समय वाक्य में प्रत्येक शब्द को अलग-अलग करके उसका परिचय बताना चाहिए

उदाहरण:-

“राम ने बाली को तीर मारा”

राम- यहाँ राम एकवचन, कर्ताकारक एवं व्यक्ति वाचक, पुल्लिंग संज्ञा है|

बाली – यहाँ एकवचन, कर्मकारक एवं व्यक्तिवाचक, पुल्लिंग संज्ञा है|

बाण- यहाँ बाण एकवचन करण कारक एवं व्यक्ति वाचक पुल्लिंग संज्ञा है|

संज्ञा शब्द और पद

सार्थक वर्णों के समूह को शब्द कहा जाता है लेकिन जब भी किसी शब्द को किसी वाक्य में उपयोग किया जाता है तब उस शब्द को व्याकरण के नियमानुसार शब्द न कहकर पद कहा जाता है अतः जो शब्द वाक्य में प्रयुक्त होता है वह पद कहलाता है|

हिन्दी भाषा में पद पांच प्रकार के होते है|

  • संज्ञा
  • सर्वनाम
  • विशेषण
  • क्रिया
  • अवयव

निम्नलिखित वाक्यों में इन पदों को स्पष्ट रूप से समझाया गया है|

1 बलराम कल दिल्ली जायेगा|

2 वह लकड़ी काट रहा है|

3 कुत्ता भौंकता है|

4 क्षमा सबसे महान कार्य है|

5 इसकी गहराई बहुत है|

उपर्युक्त वाक्यों में-

एक व्यक्ति है जिसका नाम बलराम है

एक शहर है जिसका नाम दिल्ली है

एक वस्तु है जिसे लकड़ी कहते कहते है

एक भाव है जो क्षमा है

गहराई से गहन भाव प्रकट होता है

उपर बताये सभी संज्ञा है जो किसी व्यक्ति, वस्तु या स्थान के नाम को इंगित (दर्शाते) करते है|

संज्ञा से सम्बंधित महत्वपूर्ण प्रश्न एवं उत्तर

प्रश्न:- 1) संज्ञा किसे कहते है?

उत्तर: किसी व्यक्ति, वस्तु स्थान, जाती, भाव आदि के नाम को संज्ञा कहते है|

प्रश्न:- 2) संज्ञा के कितने भेद होते है?

उत्तर: संज्ञा के चार भेद होते है|

प्रश्न:- 3) पुरुषत्व शब्द में कौनसी संज्ञा है?

उत्तर: पुरुषत्व शब्द में भाववाचक संज्ञा है|

प्रश्न:- 4) भाववाचक संज्ञा की क्या पहचान है?

उत्तर: भाववाचक संज्ञा की पहचान में किसी व्यक्ति, वस्तु के गुण-दोष, धर्म, दशा आदि का बोध होता उसके नाम से होता है|

प्रश्न:- 5) व्यक्ति वाचक संज्ञा किसे कहते है|

उत्तर: किसी व्यक्ति के नाम से सम्बंधित शब्द व्यक्तिवाचक संज्ञा कहलाता है|

प्रश्न: 6) समूह वाचक संज्ञा किसे कहते है|

उत्तर: किसी व्यक्ति, वस्तु या स्थान आदि के समूह को जिस नाम से बताया जाता उसे समूह वाचक संज्ञा कहते है|

प्रश्न: 7) सर्वनाम क्या होता है?

उत्तर: संज्ञा के स्थान पर उपयोग होने वाले शब्दों को सर्वनाम कहा जाता है|

प्रश्न:- 8) क्या सर्वनाम संज्ञा का ही रूप है?

उत्तर: हाँ, सर्वनाम संज्ञा का ही रूप है|

प्रश्न:- 9) विशेषण किसे कहते है?

उत्तर: संज्ञा की विशेषता बताने वाले शब्दों को विशेषण कहा जाता है|

प्रश्न:- 10) संज्ञा को अंग्रेजी (English) में क्या कहते है?

उत्तर: संज्ञा को अंग्रेजी में नाउन (Noun) कहते है|

प्रश्न:- 11) द्रव्यवाचक संज्ञा किसे कहते है?

उत्तर: किसी भी पदार्थ, या द्रव्य से सम्बंधित नाम को द्रव्यवाचक संज्ञा कहते है|

summary

आपको संज्ञा से सम्बंधित यह अर्तिल्स कैसा लगा कमेंट में जरुर बताये और अगर आपको हिंदी व्याकरण सीखना चाहते है तो हमारी इस वेबसाइट को देखते रहे यहाँ हम नई-नई जानकारियाँ साझा करते रहते है|

आज आपने सिखा की संज्ञा क्या किसे कहते है? संज्ञा के कितने भेद होते है? एवं संज्ञा से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण प्रश्नों के उत्तर आपने इस आर्टिकल के माध्यम से जाने|

हम आशा करते है की आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा होगा|

Leave a Comment