विशेषण किसे कहते है इसके भेद एवं परिभाषा – visheshan in hindi

विशेषण, के पहले हमने संज्ञा के विषय में जाना उसके बाद हमने सर्वनाम के बारे में जाना अब हम इस पोस्ट में आपको बता रहे है की विशेषण किसे कहते है इसके कितने भेद है (VIsheshan In Hindi) इसकी परिभाषा क्या है|

तो चलिये जानते है विशेषण के बारे में-

विशेषण (Visheshan In Hindi)

संज्ञा के विषय में यह है की यह किसी का नाम होता है और सर्वनाम संज्ञा के स्थान पर उपयोग किया जाता है लेकिन विशेषण की परिभाषा इसने अलग है विशेषण भी संज्ञा और सर्वनाम से ही जुड़ा है|

विशेषण से तात्पर्य है विशेषता बताने वाला, जो शब्द किसी की विशेषता बताता है उसे विशेषण शब्द कहते है|

इसे विशेषण की परिभाषा से भी समझते है की विशेषण की परिभाषा क्या है|

विशेषण की परिभाषा (What is Visheshan in Hindi)

संज्ञा, सर्वनाम एवं क्रिया आदि की विशेषता जिन शब्दों के द्वारा बताई जाती है उन्हें हम विशेषण शब्द कहते है ये संज्ञा के साथ प्रयोग किये जाते है अर्थात विशेषण शब्द संज्ञा और सर्वनाम की विशेषता का बोध करवाते है|

विशेषण विकारी शब्द होते हैं एवं इन्हें सार्थक शब्दों के आठ भेदों में से एक माना जाता है।

जैसे- वीर पुरुष, दो लम्बा, भारी, सुंदर, कायर, दयालु, टेढ़ा–मेढ़ा, अच्छा, एक, गोरा, बुरा, मीठा, बड़ा, खट्टा, काला आदि विशेषण शब्दों के कुछ उदाहरण हैं।

(1) राम महान है|

यहाँ पर राम एक संज्ञा (नाम) है और महान एक विशेषण शब्द है जो राम की महानता का बोध करवा रहा है|

(2) सुन्दर नारी

यहाँ सुन्दर एक विशेषण शब्द है और नारी एक संज्ञा है|

यह भी पढ़े:

संज्ञा किसे कहते है संज्ञा के भेद

सर्वनाम किसे कहते है इसकी परिभाषा और भेद

कबीर दास की अनसुनी कहानियाँ

बूढ़े की महिमा- हास्य कहानी

विशेष्य की परिभाषा (Visheshya Ki Paribhasha)

विशेष्य शब्द भी संज्ञा या सर्वनाम ही होते है जैसे:- जिस भी संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताई जाती है तो उस संज्ञा या सर्वनाम को विशेष्य कहा जाता है|

विशेष्य भी संज्ञा या सर्वनाम ही होता है लेकिन विशेषण की परिभाषा में इसे विशेष्य कहा जाता है|

जैसे:- कोयल काली है|

इसमें कोयल विशेष्य है क्युंकी यह एक संज्ञा है और काली विशेषण शब्द है जो इसके रंग की विशेषता का बोध करवा रहा है|

विशेष्य शब्द विशेषण के पूर्व में भी और बाद में भी आते है|

जैसे :

पूर्व में:- (1) यह गाड़ी तेज है| (2) दवाई कड़वी है|

बाद में:- (1) थोड़ी से देर हो गई| (2) एक किलोमीटर दूर है|

विशेषण के भेद (visheshan ke bhed)

वैसे तो विशेषण उन शब्दों को कहा जाता है जो विशेषता बताने का कार्य करते है लेकिन विशेषण को अलग-अलग प्रकार से बताया गया है विशेषण के 8 भेद होते है|

  1. गुणवाचक विशेषण
  2. संख्यावाचक विशेषण
  3. परिमाणवाचक विशेषण
  4. सार्वनामिक विशेषण
  5. व्यक्तिवाचक विशेषण
Visheshan In Hindi visheshan ke bhed
Visheshan In Hindi visheshan ke bhed

गुणवाचक विशेषण (Gunvachak Visheshan)

ये वे विशेषण शब्द होते है जो संज्ञा या सर्वनाम के रूप,रंग के गुणों की विशेषताओं का बोध करवाते है| यह भौतिक गुणों की भी विशेषता बताने का कार्य करते है|

रामायण बहुत बड़ा ग्रन्थ है|

सोमनाथ पुराना मंदिर है|

भारत में अच्छे लोग रहते है|

क़ुतुब मीनार ऊँचा है|

उपरोक्त वाक्यों में बड़ा, पुराना , अच्छे ऊँचा ये सभी शब्द गुणवाचक विशेषण के उदाहरण ही है| जिनके द्वारा महानता, समय, व्यव्हार और भौतिक आकर आदि गुणों को बताने का प्रयास किया गया है|

संख्यावाचक विशेषण (Sankhyavachak Visheshan)

ऐसे शब्द जो संज्ञा या सर्वनाम के संखात्मक गुणों की विशेषताओ का बोध करवाते है उन्हें संख्यावाचक विशेषण कहते है|

प्रथ्वी पर सात महाद्वीप है|

सौरमंडल में नौ गृह है|

सूर्यनमस्कार में बारह आसन है|

ऊपर दिए गये वाक्यों में सात, नौ, बारह इस शब्दों के द्वारा संख्या को बताया जा रहा है की कितने महाद्वीप, कितने गृह और कितने आसन है|

यह विशेषण हमें स्पष्ट रूप से संख्या के द्वारा बता देता है की कोई विषय में कितना योगदान है जो यह निश्चित हो जाता है|

संख्यावाचक विशेषण के भेद

  • निश्चित संख्यावाचक विशेषण
  • अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण
निश्चित संख्यावाचक विशेषण

इस प्रकार के विशेषण शब्द निश्चितता का बोध करवाते है जैसे: दो, तीन, एक , पांच, दस आदि|

निश्चित संख्यात्मक विशेषण के भी छः भेद होते है

  • पूर्णाक बोधक विशेषण
    • जैसे:- एक, दस, सौ, हजार, लाख आदि।
    • एक व्यक्ति बैठा है|
    • दस लोग खाना खा रहे है
    • सेना में सौ हाथी है|
    • अमीरों का लाखों रूपये का व्यापार होता है|
  • अपूर्णांक बोधक विशेषण
    • जैसे:- पौना, सवा, डेढ, ढाई आदि।
    • डेढ़ कदम ज्यादा चलना|
    • सवा दो रूपये की बात है|
    • ढाई सौ रूपये में खेद बेचा था|
  • क्रमवाचक विशेषण
    • जैसे:– दूसरा, चौथा, ग्यारहवाँ, पचासवाँ आदि।
    • घर के फैसला दूसरा व्यक्ति नहीं करना चाहिए|
    • अच्छे पढने वाले बच्चे प्रथम स्थान पर आते है|
    • मैं मेरे पापा का चौथा लड़का हूँ|
  • अव्रत्तिवाचक विशेषण
    • जैसे:- दुगुना, तिगुना, दसगुना आदि।
    • जितना हम अच्छा कर्म करते है उतना हमें दुगुना फल मिलता है|
    • भीम में एक व्यक्ति से दसगुना हाथियों जितना बल अधिक था|
  • समूहवाचक विशेषण
    • जैसे:- तीनों, पाँचों, आठों आदि।
    • ब्रम्हा, विष्णु, महेश तीनों सबसे बड़े देवता है|
    • तीनों लोकों में भगवान से बढ़कर कोई नहीं है|
    • शरीर में पाचों तत्वों का महत्त्व है|
  • प्रत्येक बोधक विशेषण
    • जैसे: प्रति, प्रत्येक, हरेक, एक-एक आदि।
    • बच्चों के प्रति स्नेह होना चाहिये|
    • प्रत्येक व्यक्ति को ईमानदारी से कार्य करना चाहिये|
    • एक-एक अन्न का दाना बहुत महत्वपूर्ण होता है|
अनिश्चित संख्यावाचक विशेषण

इस प्रकार के विशेषण शब्द संख्या तो बताने की कौशिश करते है लेकिन इनमे संख्या निशिचत नहीं होती है| जैसे: कई, अनेक, बहुत, कम, सभी, अनंत आदि|

जैसे:- कई लोग भूखे मर रहे है|

अनेक बार भगवान ने हमारी रक्षा की है|

कम पढ़ा लिखा होना आपकी गलती नहीं है|

ईश्वर अनंत है|

परिमाणवाचक विशेषण (Parimanvachak Visheshan)

जो विशेषण शब्द मात्रा के द्वारा संज्ञा या सर्वनाम की विशेषता बताते है उन्हें परिमाणवाचक विशेषण शब्द कहा जाता है| परिमाणवाचक विशेषण में वस्तु के नाप-तौल आदि का बोध होता है|

परिमाणवाचक विशेषण का प्रयोग अधिकतर भाववाचक, द्रव्यवाचक, समूहवाचक ,संज्ञाओं के साथ किया जाता है|

कुत्ता थोड़ी सी नींद लेता है|

समंदर बहुत बड़ा है|

परिमाणवाचक विशेषण के भेद

  • निश्चित परिमाणवाचक विशेषण
  • अनिश्चित परिमाणवाचक विशेषण
निश्चित परिमाणवाचक विशेषण

जो निश्चित परिमाण का बोध करवाए उसे निश्चित परिमाणवाचक विशेषण कहते है|

जैसे: पाव सेर अनाज, एक किलोमीटर, दो लीटर दूध|

निश्चित परिमाणवाचक विशेषण

जिन शब्दों के परिणाम से अनिश्चितता का बोध होता है उन्हें निश्चित परिमाणवाचक विशेषण कहते है|

जैसे: अधिक गुस्सा, कम बोलना आदि|

सार्वनामिक विशेषण (Sarvnamik Visheshan)

यह शब्द संज्ञा के लिए विशेषण का कार्य करते हैं।

वह आदमी दयालु है|

जैसे: मेरी पुस्तक , कोई बालक , किसी का महल , वह लड़का , वह बालक , वह पुस्तक , वह आदमी , वह लडकी आदि।

व्यक्तिवाचक विशेषण (Vyaktivachak Visheshan)

वे विशेषण शब्द, जो व्यक्तिवाचक संज्ञा शब्दों से बनते है उन विशेषण शब्दों को व्यक्तिवाचक विशेषण कहते हैं।

जैसे:- वह केशव ही है, जो कल वहां था

जापानी खिलौने,बीकानेरी भुजिया,जयपुरी रजाइयाँ, भारतीय सैनिक,बनारसी साङी, कश्मीरी सेब,जोधपुरी जूती, आदि।

Visheshan Video In Hindi

विशेषण के बारे में हमने आपको लिख कर बाता दिया लेकिन अगर आप इसे विडियो के माध्यम से समझना चाहते है तो हमने आपके लिये एक विडियो भी शेयर की है जिसे देखकर आप आसानी से विशेषण के बारे में समझ जाओगे|

विशेषण के बारे में यह जानकारी कैसी लगी हमें कमेंट में जरुर बताये अगर आपको इसमें कोई समस्या आ रही है या कुछ समझ नहीं आया हो तो जरुर से बताये|

आज कल हीन्दी व्याकरण को पढ़ाने वालो की संख्या कम होती जा रही है ऐसे में हिन्दी सिखने वाले के लिये यह बहुत बड़ी समस्या है|

खासकर जब इन्टरनेट पर ऑनलाइन हिंदी भाषा के व्याकरण को सिखाने के बात होती है तो बहुत ही कम इसे साधन यह वेबसाइट है जो हिन्दी भाषा को सिखाते है

इसी बात को ध्यान में रखकर हमने यह पोस्ट Visheshan In Hindi लिखी जिससे आपको विशेषण के बारे में सही जानकारी मिल सके|

इस आर्टिकल को पढने के लिये आपका दिल से धन्यवाद्

4 thoughts on “विशेषण किसे कहते है इसके भेद एवं परिभाषा – visheshan in hindi”

Leave a Comment